धूप मे चमकता अमलतास

कविता संग्रह : तुम पर नेह best hindi poem on love life 


Hindi poem on love hindi poem on lover hindi poem on love and respect hindi poem on love at first sight hindi poem on love in english hindi poem on love and affection hindi poem on love for country hindi poem on love for india hindi poem on love triangle hindi poem on love hurts best hindi poem on love hindi poem on true love hindi short poem on love hindi poem on sister love hindi poem on parents love hindi shayari poem on love hindi poem on distance love hindi poem on lost love hindi poem on first love हिंदी पोएम व लव hindi poem on sad love hindi poem on rain and love hindi poem about love poem on animal love in hindi a beautiful poem on love in hindi hindi poem by love hindi poem on country love hindi poem to express love hindi poem for love hindi poem for girlfriend love hindi poem on love in hindi hindi poem love image hindi poem i love my school hindi poem i love you poem on love in hindi for boyfriend poem on love in hindi for girlfriend best poem on love in hindi short poem on love in hindi sad poem on love in hindi beautiful poem on love in hindi small poem on love in hindi emotional poem on love in hindi funny poem on love in hindi long poem on love in hindi romantic poem on love in hindi nice poem on love in hindi cute poem on love in hindi some poem on love in hindi hindi poem on radha krishna love poem on radha krishna love in hindi hindi poem lyrics love hindi poem for my love hindi poem on love hindi poem love story hindi poem of love hindi poem love romantic hindi poem on one sided love Hindi poem on love life poem on love life in hindi poem on love story in hindi short poems on love and life in hindi poems on love and life in hindi poetry love story in hindi

Best hindi poem on love life by priya singh

Best hindi poem on love life : तुम पर नेह


तुम पर नेह
अपांग से ढलकी अश्रु बूँद है
तुम पर नेह 
वो व्याकुलता है हृदय की
कि जैसे कोई वृद्ध स्त्री 
इकलौते पुत्र की राह देखती है
तुम पर नेह 
उस बच्ची के भय सा है 
जो डरती है पिता से 
कि हाथ से गिर टूट गया 
कोई काँच का मर्तबान 
तुम पर नेह

कभी धूप मे चमकता अमलतास है
तो कभी निशा मे झरता हरसिंगार है 

●●●●●●●●●●●●●●●●●

Best hindi poem on love life : एक उदासी


एक उदासी 
जो ओढ़ ली सिर से
उदासी न हुई 
सिर को आसमान हो गई 
हवा मे खींच दी एक रेखा
वो क्या उदासी का नायाब वक्त था
हर रेखा बदलती जाती 
तुम्हारे अक्स में
रेखा न हुई 
तुम्हारी चिरंतन स्मृतियों की
तस्वीरें हो गईं

●●●●●●●●●●●●●●●●●

Best hindi poem on love life : सरिता कुछ भी नहीं


मृत्यु एक सरिता रही 
जीवन उसका किनारा 
हम किनारों पर कतारों मे खड़े हैं 
थोड़ी मिट्टी कटती है 
थोड़ा जीवन सरिता मे लुप्त हो जाता है 

सरिता कुछ भी हो 
सागर तो परम ईश्वर ही हैं।

●●●●●●●●●●●●●●●

Best hindi poem on love life : मैं देखना चाहती हूँ


किसी शान्त दोपहर में
किवाड़ से दस्तक देती है 
उसकी स्मृति 
जब मैं काढ़ रही थी कुशन 
और झट उसके आते ही
चुभ गई सुई मेरी तर्जनी में 
तब जो अवधान न हटता बेल बूटे से
तो रंग सकती मैं भी
दुनिया के सफ़े पर अपना नाम 
सच कहूँ, भय लगता है
सृष्टि मिथ्या है ही
ईश्वर की उपस्थिति पर भी प्रश्नचिह्न
किसी दिवस ये भी पक्का कर देंगे वैज्ञानिक 
कि प्रेम मृग मरीचिका के सिवा कुछ भी नहीं 
तब... मैं एक सदी अपनी तर्जनी को निहारती रहूँगी

मुझे इस संसार के ख़त्म होने का इंतज़ार है
मैं देखना चाहती हूँ क्या शेष रहता है उपरान्त

प्रिया सिंह 





Read more at nayiwalistory :- 

0/Post a Comment/Comments

कृपया यहाँ कोई भी स्पैम लिंक कमेंट न करें

Previous Post Next Post