आकाश के सीने पर : कविता


आकाश के सीने पर
सूरज ने लिखा 
'सुबह'
तभी रात 
अचानक फिसलकर 
नदी में गिर गयी।

-ऋतु त्यागी (पुस्तक- समय की धुन पर)


Hindi Short Poem (लघुकविता) : सुबह

Best Hindi short poem laghukavita (In frame- Ritu Tyagi)

Hindi Short Poem (लघुकविता) : हिसाब


एक कागज़ हवा में हिल रहा है
हिलता जा रहा है
उस पर किसी के घर का 
पूरा हिसाब है

उड़ेगा 
तो यहीं कहीं मिल जायेगा
पेड़ के गिरे हुए पत्तों के पास

शायद मिल जायेगा
पर हमनें तो पेड़ काट दियें हैं।

-ऋतु त्यागी

Hindi Short Poem (लघुकविता) : दूधिया हँसी


मन करता है कि 
किसी बच्चे के 
होंठों की दूधिया हँसी 
उन उदास होंठों पर रख दूँ 
जो बरसों से हँसी के स्पर्श से 
एक दूरी बना चुकें हैं।

-ऋतु त्यागी

Hindi Short Poem (लघुकविता) : सभ्यता और यंत्र


सभ्यता की ज़िम्मेदारी थी
कि म से मनुष्य बने

पर उसकी रुचि में 
शायद य से यंत्र था।

-ऋतु त्यागी


Hindi Short Poem (लघुकविता) : गुलाबी चिट्ठी


प्रेमिका के आँखों में ठहरे 
सपनीले पानी की तरह
गुलाबी चिट्ठी थी वो

अब जिनके जवाब 
नीली रातों में अक्सर
वह खारे पानी से दिया करता है।

-ऋतु त्यागी

लेखिका से जुड़ने के लिए यहाँ पर क्लिक करें


(आप nayiwalistory पर पढ़ रहे थे best hindi short poem लघुकविता संग्रह : आकाश के सीने पर)


Read more at nayiwalistory :- 

0/Post a Comment/Comments

कृपया यहाँ कोई भी स्पैम लिंक कमेंट न करें

Previous Post Next Post